कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्ज यूनियन ने सरकार विरोधी नीतियों के खिलाफ की हड़ताल, पनबस को नहीं चलने देंगे

Ludhiana Highlights | राज्य सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों के खिलाफ पंजाब रोडवेज/पनबस कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्ज यूनियन ने & दिवसीय हड़ताल करके पंजाब भर की बसों का चक्का जाम करने की चेतावनी दी थी, जिसके चलते आज यूनियन ने बस स्टैंड परिसर में सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए रोष रैली निकाली। इसमें रोडवेज कर्मी भी कॉन्टै्रक्ट वर्कर यूनियन के समर्थन में आए। यूनियन की सैंट्रल बॉडी द्वारा कोई सूचना न मिलने से बस स्टैंड को बंद नहीं किया गया बल्कि बस स्टैंड पर आवागमन पहले जैसा ही था। इस हड़ताल से जहां सरकार को घाटा सहना पड़ रहा है वहीं यात्रियों को भी सरकारों

July 17, 2018

“मेयर ने बुलाई निगम अफसरों की मीटिंग; बरसात से परेशान लोगो कि लिए जारी किए नंबर “

Ludhiana Highlights | हम आपके लिए और आपके साथ हैं, कृपया हमारे साथ सहयोग दें |मेयर बलकार सिंह संधू ने लुधियाना नगर निगम से पूछा है अधिकारियों को यह विश्वास दिलाने के लिए चल रहे बरसात के मौसम के दौरान निवासियों को किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है। आज आयोजित की एक बैठक के दौरान मेयर संधू ने कहा लुधियाना एमसी लुधियाना शहर के निवासियों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है और उन्हें बरसात के मौसम के दौरान किसी तरह का दुःख नहीं झेलने देगा। उन्होंने यह भी कहा कि किसी भी समस्या के मामले में, जनता निम्नलिखित

July 17, 2018

वाल्मीकि समाज ने लक्ष्मण द्रविड़ को शहीद करार देते हुए बनाया उनके नाम का चौंक

Ludhiana Highlights | लुधियाना के सूफ़िया चौंक में प्लास्टिक फैक्टरी में हुए धमाके के बाद मलबे में दबने के कारण करीब

now fitness gym ludhiana

13 लोगो की मौत हो गयी जिसमे भारतीय वाल्मीकि धरम समाज के राष्ट्रीय निर्देशक लक्ष्मण द्रविड़ भी शामिल थे । लक्ष्मण द्रविड़ को शहीद करार देते हुए वाल्मीकि समाज ने दामोरिया पुल के नज़दीक आर्य स्कूल के पास उनके नाम का चौंक बनाया है जिसे शहीद लक्ष्मण द्रविड़ चौंक नाम दिया गया है । भारतीय वाल्मीकि धरम समाज के मुख्य संचालक विजय दानव ने कहा के द्रविड़ ने दोस्ती की खातिर अपनी जान दी है और दोस्ती की खातिर जान देने वाला व्यक्ति शहीद ही माना जाता है । बता दे के फैक्टरी में लगी आग के बाद फैक्टरी मालिक की चिंता को देखते हुए और दोस्ती का फ़र्ज़ निभाते हुए द्रविड़ खुद फैक्टरी में फायर कर्मचारियों के साथ आग पर काबू पाने के लिए चले गए थे जिन्हे पुलिस ने प्रशासन ने कई बार रोका भी था । लेकिन उस समय उनके लिए जिंदगी से भी ज्यादा कीमती उनके दोस्त की फैक्टरी में लगी आग को किसी तरह काबू में करना था जिस कारण उनकी मौत हो गई थी ।