बच्चों को सुंदर लिखाई के लिए प्रोत्साहित करने को शिक्षा विभाग ने जारी किए हैं आदेश, दिए जाएंगे 5 अंक

Ludhiana Highlights | बच्चों को सुंदर लिखाई के लिए प्रोत्साहित करने को शिक्षा विभाग ने आदेश जारी किए हैं। इस बार प्राइमरी कक्षाओं के बच्चों को मार्च में होने वाली परीक्षाओं में हर विषय में सुंदर लिखाई के लिए 5 अंक दिए जाएंगे। इसकी पुष्टि जिला शिक्षा अधिकारी (एलीमेंट्री) बलबीर सिंह ने की है। इस संबंधी विभाग ने सभी स्कूलों को आदेश जारी कर दिए हैं। पंजाब सरकार की तरफ से सरकारी प्राइमरी स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए पढ़ो पंजाब पढ़ाओ पंजाब प्रोजेक्ट चलाया जा रहा है। इसके तहत प्राइमरी स्कूलों में सुंदर लिखाई लिखने के लिए

January 22, 2019

दिन-दिहाड़े हथियारों के बल पर Petrol pump कर्मचारी से लूटे लाखों, पूरी घटना CCTV में हुई कैद

Ludhiana Highlights |  दिन-दिहाड़े लुटेरों ने एक बड़ी घटना को अंजाम देते हुए हथियारों के बल पर पैट्रोल पंप का कैश जमा करवाने गए कर्मचारी से 11 लाख रुपए की लूट की और फरार होने में सफल हो गए। जानकारी के अनुसार रामपुरा-बरनाला राष्ट्रीय मार्ग पर रिलायंस कम्पनी का बड़ा पैट्रोल पंप है जहां रोजाना की तरह फाईनांस कम्पनी के कर्मचारी 11 लाख रुपए कैश लेकर मोटरसाइकिल से बैंक में जमा करवाने गए कि रास्ते में 2 मोटरसाइकिल सवार लुटेरों ने हथियारों के बल पर कर्मचारियों से कैश वाला बैग छीन लिया और उन्हें धमकी देकर फरार हो गए। पैट्रोल पंप

January 22, 2019

फर्जी Agent के झांसे में आकर Indonesia पहुंचे 11 युवकों को बनाया बंधक, किसी तरह कंपनी से भाग कर अपनी जान बचाई

Ludhiana Highlights | फर्जी एजेंट के झांसे में आकर इंडोनेशिया पहुंचे 11 युवकों को एयरपोर्ट के बाहर से ही किडनैप कर लिया गया। आंखों में पट्‌टी बांध  कार में इधर-उधर घुमाते रहे। महिला सेवा वेल्फेयर सोसायटी और लोक इंसाफ पार्टी (लिप) के प्रयासों से समाना के भवनीश, सोनू, शिंदरपाल और जसपाल सिंह गांव कोटली समेत 9 युवक घर लौटे। बाकी दो की भी वापसी के प्रयास जारी हैं। पीड़ित शिकायत एसएसपी को दो महीने पहले दे चुके हैं।  समाना के भवनीश ने बताया कि मोहल्ले के मनजीत सिंह ने 45 हजार सैलरी पर पैकिंग का काम दिलाने की बात कही। 85

January 22, 2019

अब सैलरी पर पड़ेगी GST की मार, कंपनियां यू कम करेंगी अपना टैक्स बोझ?

अब आपकी सैलरी पर जीएसटी का असर दिखने जा रहा है। इकोनॉमिक टाइम्स ने दावा किया है कि इस असर के चलते देशभर की कंपनियां अपने कर्मचारियों के सैलरी पैकेज में बड़े बदलाव की तैयारी में हैं क्योंकि अब कर्मचारी की सैलरी का ब्रेकअप कंपनियों पर भारी पड़ेगा। शॉपिंग और रेस्टोरेंट बिल के बाद ये और बड़ा झटका होगा।

हाउस रेंट, मोबाइल और टेलिफोन बिल, हेल्थ इंश्योरेंस, मेडिकल बिल, ट्रांस्पोर्टेशन जैसे सैलरी का ब्रेकअप यदि जीएसटी के दायरे में आ जाएगा तो कंपनियों को आपकी सैलरी पैकेज को नए सिरे से निर्धारित करना होगा। टैक्स जानकारों ने कंपनियों को सलाह देना शुरू कर दिया है कि वह अपने एचआर डिपार्टमेंट को कर्मचारी के सैलरी ब्रेकअप को नए सिरे से समझने के लिए कहे। जानकारी है कि अथॉरिटी ऑफ एडवांस रूलिंग (एएआर) के हाल में दिए एक फैसले के बाद कंपनियां कर्मचारी की सैलरी को लेकर सजग हो गई हैं और वह अपनी टैक्स देनदारी बचाने के लिए नए सैलरी ब्रेकअप पर काम कर रही हैं। और एएआर ने एक खास मामले में फैसला दिया है कि कंपनियों द्वारा कैंटीन चार्जेस के नाम पर कर्मचारी की सैलरी से कटौती जीएसटी के दायरे में होगी। इस फैसले के बाद जानकारों का मानना है कि कंपनियों द्वारा कर्मचारियों की दी जा रही कई सुविधाएं जिसके ऐवज में सैलरी में कटौती की जाती है को जीएसटी के दायरे में कर दिया जाएगा। फिलहाल कंपनियां कर्मचारी को कॉस्ट टू कंपनी के आधार पर सैलरी पैकेज तैयार करती थी और कई सेवाओं के ऐवज में कटौती को सैलरी का हिस्सा बनाकर दिया जाता है। लेकिन अब यदि इसे जीएसटी के दायरे में लिया जाता है तो कंपनियां किसी कर्मचारी की कॉस्ट टू कंपनी को ही आधार रखते हुए उसके ब्रेकअप में बदलाव करेंगी जिससे कंपनी की टैक्स देनदारी पर कोई प्रभाव न पड़े.टैक्स जानकारों के मुताबिक कर्मचारियों की सैलरी में कई ऐसे ब्रेकअप शामिल रहते हैं जिनके ऐवज में कंपनियां सेवा प्रदान करती है और कर्मचारियों को इन सेवाओं के ऐवज में पेमेंट बिना किसी रसीद के मिल जाता था। इसके चलते टैक्स विभाग के लिए इन सेवाओं पर जीएसटी का अनुमान लगाना मुश्किल होता है और कंपनियां अपनी सुविधा पर अपना टैक्स बचाने के लिए कर्मचारियों की सैलरी ब्रेकअप तैयार करती हैं। लिहाजा, कंपनी द्वारा कर्मचारी को दी जा रही सेवाएं यदि जीएसटी के दायरे में आती हैं तो कंपनियों की कोशिश देश जीएसटी को भी कर्मचारी के कॉस्ट टू कंपनी में जोड़ दे जिससे उसकी टैक्स देनदारी पर असर न पड़े।