बेकरी फैक्ट्री के चौकीदार की मिलीभगत से अंदर काम कर रहे 3 वर्करों ने 25 बोरे बिस्किट चूरा कर लिया चोरी

Ludhiana Highlights | भाई मन्ना सिंह नगर स्थित बेकरी फैक्ट्री के चौकीदार की मिलीभगत से अंदर काम कर रहे तीन वर्करों ने 25 बोरे बिस्किट चूरा चोरी कर लिया। थाना डिवीजन नंबर चार पुलिस ने उनके खिलाफ केस दर्ज करके गिरफ्तार कर लिया है। सोमवार को उन्हें अदालत में पेश किया गया, जहा से रिमाड हासिल करने के बाद कड़ी पूछताछ की जा रही है। एएसआइ सतनाम सिंह ने बताया कि आरोपितों की पहचान नेपाल के जिला कलाली के गाव गुड्डू सूरमा निवासी गोरखा तेज सिंह, उत्तर प्रदेश के जिला एटा के गाव मजदूनपुर निवासी योगेश, शिव कुमार तथा अशोक नगर

October 22, 2018

अमृतसर में हुए हादसे में सवालों के घेरे में आईं अपनी पत्‍नी के बचाव में उतर आए सिद्धू, कहा कि हादसे के लिए रेलवे जिम्‍मेदार

Ludhiana Highlights | स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू यहां जोड़ा फाटक के पास हादसे में 62 लाेगों के मारे जाने के मामले में पत्‍नी डॉ. नवजोत कौर सिद्धू के बचाव में खुलकर सामने आ गए हैं। सिद्धू ने कहा कि  रेलवे ट्रैक पर हुई मौतों के लिए रेलवे को जिम्मेदार है, मेरी पत्‍नी नहीं। उन्होंने कहा कि यह एक हादसा था, जो रेलवे की सतर्कता न होने की वजह से हुआ। उधर, शिरोमणि अकाली दल ने इस मामले में डाॅ. नवजोत कौर को भी दोषी ठहराया है और उनके खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की है। पार्टी ने कहा

October 22, 2018

दुगरी इलाके में पिछले 30 सालों से 9 फ्लैटों पर नाजायज कब्जे को विधायक बैंस ने पुलिस से छुड़वाया

Ludhiana Highlights | दुगरी इलाके में ग्लाडा के 9 फ्लैटों से लुधियाना पुलिस द्वारा पिछले 30 सालों से नाजायज कब्जे को आज विधायक एवं लिप प्रमुख सिमरजीत सिंह बैंस ने छुड़वाया। फ्लैटों के असल मालिक ग्लाडा को इस जमीन का कब्जा सौंप दिया गया है। इस दौरान फ्लैटों के साथ लगते इलाका निवासियों ने बैंस को इस कार्य के लिए सम्मानित किया। विधायक बैंस ने कहा कि पुलिस की नाजायज धक्केशाही बर्दाश्त नहीं होगी, इसलिए उनको पंजाब निवासियों के साथ की जरूरत है। उन्होंने कहा कि किसी को नाजायज कब्जा नहीं करने दिया जाएगा, चाहे वह पुलिस अधिकारी क्यों न हो या

October 22, 2018

कठुआ मामलाः जब खाली निकला सबूतों का लिफाफा, फोरेंसिक लैब की रिपोर्ट में कुछ नहीं मिला

Ludhiana Highlights | कोर्ट में जब मामले की सुनवाई चल रही थी तो लड़की की मौत के बाद जब्त किए गए बाल, कपड़े तथा अन्य सैंपलों को चेक करने के लिए फोरेंसिक लैब से आई रिपोर्ट को खोला गया। इस लिफाफे पर फोरेंसिक साइंस लैब की सात मुहरें लगी हुई थीं। कोर्ट के सामने जब लिफाफे को प्रोसिक्यूशन की ओर से खोला गया तो अंदर चारों लिफाफे खाली मिले।

बचाव पक्ष के वकील एके साहनी ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि एफएसएल रिपोर्ट में कुछ न मिलने के बाद अब प्रोसिक्यूशन के लिए समस्याएं विकट बन सकती हैं। इस मामले की सुनवाई को लेकर दसवें गवाह को पेश किया गया। बचाव पक्ष की ओर से उसके साथ क्रास एग्जामिनेशन की गई।

बचाव पक्ष के वकील एके साहनी ने कोर्ट में याचिका दायर कर मांग की कि इस केस का फेयर ट्रायल चल रहा है। ऐसे में प्रोसीक्यूशन की ओर से कौन सा गवाह कोर्ट में पेश किया जाएगा, इसकी उन्हें पूर्व में सूचना दी जाए। साहनी ने कहा कि इस केस से 221 गवाह जुड़े हुए हैं। यदि गवाही से एक दिन पूर्व भी उन्हें पता चल जाएगा कि कौन सा गवाह आ रहा है तो वह अपनी भी तैयारी कर लेंगे। कोर्ट की ओर से इस याचिका पर 18 जुलाई को फैसला आएगा।

जम्मू कश्मीर सरकार के अभियोजन पक्ष के वकील जेके चोपड़ा ने बताया कि इस सारे मामले की सुनवाई  माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेशों पर चल रही है। सुप्रीम कोर्ट ने इस केस में गवाहों, आरोपितों और पीडि़त परिवार की सुरक्षा का जिम्मा जम्मू कश्मीर सरकार को दिया हुआ है। अधिवक्ता चोपड़ा ने बताया की माननीय सुप्रीम कोर्ट ने उनकी जांच एजेंसी की जांच और माननीय जिला एवं सत्र न्यायालय पठानकोट की कार्यवाही को सही माना है। साथ ही इस पर मुहर लगा कर सीबीआइ जांच की मांग को रद कर दिया है।